• Mon. Oct 19th, 2020

Bharat Sarathi

A Complete News Website

विचार

  • Home
  • कंगना और बहन पर साम्प्रदायिकता फैलाने के आरोप

कंगना और बहन पर साम्प्रदायिकता फैलाने के आरोप

-कमलेश भारतीय यह मुम्बई नगरिया है देख बबुआ । यहां पल पल रंग बदल जाते हैं । जो कंगना पिछले कुछ समय से दनदना कर फिल्मी दुनिया में ड्रग्स की…

एक युद्ध, प्रदूषण के विरुद्ध

हमने देख लिए है कि सिर्फ अदालती आदेशों के भरोसे हम इस समस्या से नहीं लड़ सकते. तभी तो इस मुद्दे पर हर साल हो-हल्ला होता है. इसके बावजूद भी…

सत्यमेव जयते के पुजारी है आईoबीo के सेवानिवृत्त अधिकारी नरेश नाज

 केंद्रीय खुफिया विभाग( IB) में  1970 में नेशनल पुलिस  एकेडमी माउंट आबू (राजस्थान) से ट्रेनिंग से इनका शुरू हुआ  नाज का सफ़र 2007 में चंडीगढ़ में अवकाश प्राप्त से समाप्त…

औरतों पर किए जाने वाले मज़ाकों का अर्थ क्या है ?

साहिर लुधियानवी का फिल्म साधना के लिए लिखा यह गीत औरतों के ऊपर सदियों से हो रहे भद्दे मज़ाक और पुरुष प्रधान समाज की नग्न मानसिकता की पोल खोलता है।…

बच्चों के स्कूल नहीं लौटने का खतरा एक गंभीर चेतावनी

स्कूल बंद होने के बाद अपनी शिक्षा के लिए वापस नहीं आने वाले बच्चों की संख्या अधिक होने की संभावना है,लड़कियों और युवा महिलाओं को असंतुष्ट रूप से प्रभावित होने…

कैसे रुक पाएंगे बाल तस्करी और बाल विवाह ?

बच्चे हमारी वोट बैंक राजनीतिक भागीदारी के लक्ष्य नहीं है। इसलिए, सरकार में बच्चों की न्यूज़ फ्रंट पेज नहीं है। हमारे देश में उत्तरजीविता, स्वास्थ्य, पोषण,शिक्षा और विकास, सुरक्षा उपायों…

क्या चाहिए महानायक या लोकनायक ?

-कमलेश भारतीय देश में सदी के महानायक का जन्मदिन अक्तूबर माह में आता है और एक दिन पहले इन आंखों की मस्ती से मदहोश कर देने वाली अदाकारा रेखा का…

हाथरस में कुछ हुआ क्या,,,नहीं नहीं

-कमलेश भारतीय यह एक नया हादसा होने जा रहा है जैसा हादसे सुशांत सिंह राजपूत के मामले में हुआ । कितना शोर कि जस्टिस फाॅर सुशांत और निकला यह कि…

जब हाथी पर सवार होकर बेलछी पहुंची थीं इंदिरा गांधी, जहां नरसंहार में जिंदा जला दिए गए थे कई दलित.

— दिल्ली की निर्भया, थानागाजी, बलरामपुर, हाथरस से करौली तक राजनीतिक हितो को देखा गया— राजस्थान के करौली के बकुनी गाव में कोई कांग्रेसी नेता पुजारी के जिंदा जलाने पर…

देख भाई देख , टीआरपी का खेल

-कमलेश भारतीय बाबू जी , क्या क्या नहीं हो सकता ? परीक्षाओं में नकल हो सकती है । नौकरियों में सिफारिश चल सकती है और नेताओं के झूठ का सागर…