सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि आशा वर्कर्स लोकसभा चुनाव में  इंडिया गठबंधन को सपोर्ट करेंगे

चुनावी बांड घोटाला देश का अब तक का सबसे बड़ा घोटाला है जिसे सुप्रीम कोर्ट ने असंवैधानिक बताते हुए रद्द किया

कैथल,13/05/2024 – यह समय भाजपा के 10 साल के दमन एवं उत्पीड़न का जवाब देने का समय है, यह बयान आज आशा वर्कर्स यूनियन की राज्य अध्यक्ष सुरेखा ने आशा वर्कर्स को संबोधित करते हुए दिया। आम सभा को सीटू के जिला कोषाध्यक्ष जयप्रकाश शास्त्री व यूनियन की जिला प्रधान सुषमा व जिला सचिव कविता ने भी संबोधित किया।

आशा वर्कर यूनियन हरियाणा के आह्वान पर आज कैथल की सैंकड़ो आशा वर्कर्स ने आशा वर्कर्स की वेतन कटौती व ऑनलाइन काम के विरोध में और भाजपा हराओ तथा इंडिया ज़िताओ के आह्वान के साथ जवाहर पार्क में आम सभा को संबोधित करते हुए पेहवा चौक तक प्रदर्शन किया।

आमसभा में सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि आशा वर्कर्स लोकसभा चुनाव में  इंडिया गठबंधन को सपोर्ट करेंगे । बीजेपी की जन विरोधी नीतियों से जनता  में भारी रोष है। महंगाई बेरोजगारी कई गुना बढ़ गई है। बेरोजगारी पर बात करने की बजाय प्रधानमंत्री मुसलमान पाकिस्तान पर ही बात करते रहते हैं।  बीजेपी सरकार द्वारा अनेक घोटाले किए गए हैं।

चुनावी बांड घोटाला देश का अब तक का सबसे बड़ा घोटाला है जिसे सुप्रीम कोर्ट ने असंवैधानिक बताते हुए रद्द किया है। चुनावी बांड का खुलासा होने के बाद ही पता चला है कि सरकार ने दवा कंपनियों से करोड़ों रुपए चंदा लेकर कम गुणवत्ता की दवाइयां को बाजार में बेचने की मंजूरी देकर देश की जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया है। इसलिए अब देश की जनता मिलकर बीजेपी को सबक सिखाएगी।

अपनी मांगों से संबंधित मांग पत्र आशा वर्कर्स ने जिला तहसीलदार के माध्यम से स्वास्थ्य मंत्री कमल गुप्ता को भेजा है। जनवरी 2024 से अभी तक आशा वर्कर्स को मानदेय नहीं दिए गए हैं जिससे तमाम आशाओं में नाराजगी है आशा वर्कर्स मानदेय नहीं मिलने की वजह से अनेकों समस्याओं का सामना कर रही है। ज्ञापन के माध्यम से आशाओं का वेतन और हड़ताल के दौरान के काटे गए फिक्स पैसे को तुरंत जारी करने की मांग की गई है।

आज की सभा व प्रदर्शन में सीटू नेता नरेश रोहड़ा ‌, रिटायर्ड कर्मचारी संघ कैथल के प्रधान रमेश , आशा वर्कर यूनियन की ‌नेताओ मेनका मून्दडी , रीटा हाबड़ी ,प्रकाशों कौल , रीना तितरम , सन्तोष बालू , सुनीता , सन्तोष सजूमा , रीना खेड़ी ,सुरेन्द्र कौर प्रधान गूहला ,सुमन प्रधान सीवन , कविता पट्टीअफ्गान , आशा मानस ‌, मीना संगतपुरा,पूनम कुलतारन ,रानी हाबड़ी आदि ने भी भागीदारी की‌।