• Wed. Nov 25th, 2020

Bharat Sarathi

A Complete News Website

हत्यारे 10 हजार के ईनामी को पुलिस ने किया काबू

Oct 26, 2020
रुपयों के लेनदेन में साथियों के साथ मिलकर गोली मार की थी हत्या.
एक पिस्तौल व 04 खाली खोल आरोपी के कब्जा से किए बरामद

फतह सिंह उजाला
पटौदी।
 18 मई को पुलिस थाना फरुखनगर टीम को सूचना बाबा मनसा आश्रम गाँव ताजनगर के पास गोली चलने के सम्बन्ध में प्राप्त हुई। सूचना पर थाना फरुखनगर की पुलिस टीम घटनास्थल पर पहुंची जहां पर पुलिस की दूसरी टीम द्वारा घायल यशपाल व रविन्द्र उर्फ सरकार को ईलाज के लिए मेदांता अस्पताल ले जाना पाया गया।

पुलिस टीम जब मेदान्ता अस्पताल, पहुंची तो घायल रविन्द्र सरकार व यशपाल के बारे में डाक्टरों से राय हासिल ली तो डाक्टरों द्वारा पीडित रविन्द्र सरकार को ब्यान देने की हालात में बतलाया तथा यशपाल को मृत घोषित कर दिया। उसके बाद रविन्द्र उर्फ सरकार पुत्र राजेन्द्र सिंह यादव निवासी ताजनगर थाना फरूखनगर जिला गुरूग्राम उम्र 30 वर्ष ने पुलिस टीम को बतलाया कि ये 02 भाई है, यह जमीदारा करता है। इसका पिता फौज से रिटायर्ड आकर बिजली बोर्ड में काम करता है और वर्ष 2011 में यह व इसके गाँव के बिरेन्द्र उर्फ कालू व उसका भाई बिजेन्द्र उर्फ देवेन्द्र पुत्रान बाबुलाल ने अपने गाँव के सरपंच महेन्द्र की हत्या के मामले जेल गए थे। जिसमें ये वर्ष 2014 में बरी हो गये थे। उस केश की पैरवी में इसने करीब 15 लाख रूपये खर्च हुए थे। बिजेन्द्र उर्फ देवेन्द्र ने आधे रुपए देने के लिए हाँ की थी, लेकिन बार-बार माँगने पर उसने रुपए नही दिये। उसके बाद वर्ष-2016 में जेल से छूटकर बहार आया तो बिजेन्द्र उर्फ देवेन्द्र ने कहाँ कि  दोनों प्रोप्रर्टी का काम कर लेते है जो मुनाफा होगा वो आधा-आधा कर लेगें लेकिन उसने च्त्व्च्म्त्ज्ल् में भी धोखा किया और लगभग 50 लाख रूपये इस मार लिए।

जिनके सम्बन्ध में बार-बार बिजेन्द्र उर्फ देवेन्द्र को मेरे पैसे देने के लिए कहता रहा लेकिन उसने पैसे देने से मना कर दिया और कहने लगा इन पैसों को भुल जा वरना अन्जाम बुरा होगा। इसने कहा कि यह अपने पैसे तो लेकर रहेगा। दिनांक 18.05.2020 को यह व इसका दोस्त यशपाल पुत्र राजेन्द्र यादव निवासी जौनियावास, यशपाल की स्फिट गाडी में सवार होकर अपने दोस्त सुभाष पुत्र जयचन्द निवासी ताजनगर के पास जा रहे थे गाडी को यशपाल चला रहा था यह साथ वाली सीट पर बैठा हुआ था । जब बाबा मनसा आश्रम के पास पहुँचे तो पिछे से एक सफेद रंग की गाडी स्फिट के चालक ने अपनी गाडी को एक दम इनकी गाडी के आगे लगाकर इनका रास्ता रोका, उस गाडी को विरेन्द्र उर्फ कालू पुत्र बाबुलाल निवासी ताजनगर गुरूग्राम चला रहा था। इसी दौरान विरेन्द्र उर्फ कालू गाडी से नीचे उतरा और तेजी से अपने हाथ में लिए हुए रिवाल्वर से ड्राईवर वाली खिडकी से मारने की नियत से यशपाल पर तीन फायर किये उसके बाद यशपाल गोली लगने से सीट पर ही गिर गया उसके बाद बिरेन्द्र उर्फ कालू दौडकर इसकी तरफ आया और साईड वाली खिडकी से इसके ऊपर भी जान से मारने की नियत से तीन फायर किये जैसे ही मैंने शोर मचाया तो वह अपनी गाडी को लेकर जमालपुर की तरफ भाग गया और इसने पुलिस कट्रोल रूम में फोन करके अपने दोस्त यशपाल को देखा तो उसके सिर से काफी खून बह रहा था और बेहोश था मुझे एक गोली बायें हाथ की पहली अंगुली व दाहिंने हाथ की बाजू व दाहिने पैर की साथल पर लगी हुई थी।

इस घटना को अन्जाम विरेन्द्र उर्फ कालू व बिजेन्द्र उर्फ देवेन्द्र व उसकी पत्नी अनीता व बिजेन्द्र उर्फ देवेन्द्र के मामा के लडके ने योजना बनाकर अन्जाम दिया है। उसके बाद मौके पर तुरंत वेयर हाऊस हब पुलिस चैकी से पुलिस आ गई जो इसको व यशपाल को अपनी प्राईवेट गाडी में मडोयर अस्पताल मानेसर ले गये जहाँ पर डाक्टरों ने कहाँ की यहाँ केवल करोना के मरीज है तो पुलिस इन्हें मेंदाता अस्पताल ले गई जहाँ पर डाक्टर ने इसे दाखिल कर लिया व यशपाल को मृत घोषित कर दिया। आगामी कार्यवाही करते हुए अपराध शका सिकन्दरपुर, गुरुग्राम की पुलिस टीम ने अपने गुप्त सुत्रों की सहायता से व अपने अथक प्रयासों से उक्त अभियोग में गोली मारकर हत्या करने की वारदात को अन्जाम देने वाले मुख्य आरोपी ’बिरेन्द्र उर्फ कालू पुत्र बाबूलाल निवासी गाँव ताजनग  को रेवाङी से काबू करने में बङी सफलता हासिल की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap