• Tue. Oct 20th, 2020

Bharat Sarathi

A Complete News Website

पंचकूला: ट्रैफिक के नियमो की उल्लघना की तो डाक से पहुंचेगा घर चालान

नियमो की उल्लघना करने वालो पर सीसीटीवी कैमरो से नजर

पंचकूला, 28 सितम्बर। ट्रैफिक के नियमो की उल्लघना करने वालो पर अब पुलिस सीसीटीवी कैमरो से नजर रखेगी। शहर में यातायात नियमों की उल्लघना करने पर कैमरें की नजर से बच नही पाएगें। शहर के हर चौक-चौराहे पर सीसीटीवी कैमरो से यातायात नियमों की उल्लघना करने वालो पर नजर रखी जा रही है। उल्लघना करने पर कैमरो की चपेट में आने पर मोटर अधिनियम के नियमो के तहत घर पर ही डाक से सीधा चालान भेजा जायेगा।

मोहित हाण्डा पुलिस उपायुक्त पंचकूला ने बताया कि जिला पचंकूला मे ट्रैफिक के नियमो की उल्लघना करने वालो को बख्शा नही जायेगा। पचकूला क्षेत्र मे सभी चौको पर सीसीटीवी कैमरो से नजर रखी जा रही है। अगर कोई इन कैमरो की चपेट मे आयेगा तो उसका मोटर अधिनियम के नियमो के तहत चालान सीधा घर पर भेजा जायेगा। जैसे की हैलमेट का प्रयोग ना करना, सीट बैल्ट का प्रयोग नही करने, रेड लाईट जम्प करना इत्यादि का चालान किया जायेगा। इन सीसीटीवी कैमरो के द्वारा अपराधो पर भी रोकथाम करने हेतु सहायता मिल रही है। कोई भी किसी भी प्रकार का अपराध करने की कोशिश करने वाले को सीसीटीवी कैमरो के द्वारा पकडा जाएगा। इसी के तहत कालका व पिन्जौर क्षेत्र मे भी ट्रैफिक के नियमो कि अवहेलना करने वालो कि खिलाफ कार्यवाही की जा रही है। लोग अपने वाहन पर घर से निकलते हुए दो पहिया वाहन पर हैलमेट का प्रयोग करे व चार पहिया वाहन मे सीट बैल्ट का प्रयोग करे ताकि आप के साथ कोई दुर्घटना ना घट सके।

पंचकूला पुलिस द्वारा सेक्टर-14 पुलिस थाने में सीसीटीवी कैमरा कंट्रोल रूम बनाया गया है। पूरे जिले को यहा से मॉनीटर किया जाता है। जिले में हर एंट्री को यह कैमरे स्कैन कर रहे हैं। पंचकूला के सीसीटीवी कैमरों को मॉनीटर करने के लिए स्टाफ की जरूरत नहीं है, बल्कि ये कैमरे खुद ही सारे ट्रैफिक को स्कैन करते है। ऐसे में इन कैमरों की निगाह में आने वाले वाहनों को अपने आप स्कैन किया जाता है। जो भी गाड़ी रेड लाइट क्रॉस करती है, सीट बेल्ट न पहनी हुई हो या फिर अन्य किसी भी प्रकार से रूल्स को तोड़ने पर सीसीटीवी कैमरे खुद ही गाड़ियों के नंबर को स्कैन कर लेते हैं। जिसके बाद उन सभी के स्क्रीन शॉट कर एक अलग फोल्डर में जमा कर दी जाती है। स्क्रीन शॉट को मॉनीटरिंग अधिकारी अपने पास निकालते हैं, जिसके बाद उन स्कैन नंबरों को चेक किया जाता है, कि ये नंबर सही है या नही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap