मोदी-भाजपा कभी आमजन की बात सुनते नही है अपितु अपने मन की बात ही लोगों पर थोपते है : विद्रोही

कांग्रेस ने एक साल तक आमजनों की बात सुनकर अपना किसान न्याय पत्र बनाया है जो आमजन के दिल की आवाज है : विद्रोही

7 अप्रैल 2024, स्वयंसेवी संस्था ग्रामीण भारत के अध्यक्ष एवं हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता वेदप्रकाश विद्रोही ने दावा किया कि लोकसभा चुनावों के लिए शुक्रवार को घोषित कांग्रेस का चुनावी घोषणा पत्र अर्थात किसान न्याय पत्र भारतीय राजनीतिक व सामाजिक इतिहास में गुणात्मक परिवर्तन लाने वाला एक ऐतिहासिक दस्तावेज है जिसके बेहतर दूरगामी सुपरिणाम आमजन के हित में आने तय है। विद्रोही ने कहा कि मोदी-भाजपा कभी आमजन की बात सुनते नही है अपितु अपने मन की बात ही लोगों पर थोपते है। जबकि कांग्रेस का न्याय पत्र आमजन की आवाज है। कांग्रेस ने एक साल तक आमजनों की बात सुनकर अपना किसान न्याय पत्र बनाया है जो आमजन के दिल की आवाज है। ऐसी स्थिति में आमजनों में कांग्रेस न्याय पत्र के प्रति उत्साह है और लोगों को आशा है कि यह न्याय पत्र उनके जीवन में गुणात्मक परिवर्तन लाने वाला होगा। इसी बात को भांपकर मोदी-भाजपा में किसान न्याय पत्र के प्रति भारी बेचैनी है और वे सत्ता बल पर कांग्रेस न्याय पत्र के खिलाफ दुष्प्रचार कर रहे है जबकि कांग्रेस का इतिहास ग्वाह है कि उसने सदैव जनता से किये वादे निभाये है। वहीं मोदी-भाजपा ने जुमलेबाजी से केवल जनता को ठगा है। 

विद्रोही ने कहा कि कांग्रेस न्याय पत्र में लगभग 344 वादे किये है व 5 न्याय गांरटी के माध्यम से किसानों, युवाओं, महिलाओं, श्रमिकों व भागीदारी के नाम पर देश के हर वर्ग, समुदाय को 25 गारंटी दी है जो देश के हर नागरिक को लाभ देगी। कांग्रेस ने देश के सभी 140 करोड़ लोगों के हितों को ध्यान में रखकर ऐसा न्याय पत्र बनाया है जो सभी को सत्ता द्वारा उनका वाजिब हक देगा। किसानों के लिए स्वामीनाथन सिफारिशों अनुसार एमएसपी गारंटी कानून, किसान कृषि कर्ज माफी, 30 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी की गारंटी, 25 वर्ष से कम आयु के हर डिप्लोमाधारी या स्नातक युुवक को एक साल के लिए प्रशिक्षण के साथ एक लाख रूपये का मानदेय, गरीब परिवार की महिलाओं के लिए एक लाख रूपये वार्षिक मदद, केन्द्र की नौकरियों में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत पद आरक्षित करना, जातिगत जनगणना से समाज के हर वर्ग की सामाजिक, आर्थिक व शैक्षणिक स्थिति का अध्ययन करना, आरक्षण कैप सीमा 50 प्रतिशत से ज्यादा करना, मनरेगा मजदूरों की 400 रूपये दैनिक दिहाडी करना, सभी नागरिकों को अपनी पंसद अनुसार भोजन, पहनावे की गारंटी देना ऐसे कदम है जो भारतीय समाज व हर व्यक्ति के जीवन में गुणात्मक परिवर्तन लाने का काम करेगा। 

विद्रोही ने कहा कि मोदी राज में बनाये सभी जनविरोधी कानूनों की समीक्षा, भाजपा में शामिल भ्रष्टचारियों के केसों की निष्पक्ष-स्वतंत्र जांच, इलक्टोरल बांड के माध्यम से मोदी-भाजपा द्वारा ली गई रिश्वत की जांच, चुनाव व जुडिशियल सुधार, हर नागरिक को 25 लाख रूपये का हैल्थ इंश्योरेेंस, क्रोनीकेप्टीलिज्म पर प्रहार करना, खेल व खिलाडियों को प्रोत्साहन, सेना में अग्निवीर भर्ती योजना को रद्द करना, मानहानि मामलों को अपराध मुक्त करना, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता मजबूत करना, ईडी, सीबीआई, आईटी के दुरूपयोग को कडाई से रोकना, जेल की बजाय बेल के कानून को महत्व देना ऐसे कदम होंगे जो सभी को अफसरशाही, पुलिस व जांच एजेंसियों के दुरूपयोग से बचाएगा। विद्रोही ने कहा कि जनता के कहने पर जनता के बताये मुद्दों के आधार पर बनाया गया कांग्रेस का चुनाव घोषणा पत्र देश के सभी 140 करोड़ लोगों के लिए ऐसा न्याय पत्र है जो सभी के जीवन में आर्थिक, सामाजिक, शैक्षणिक क्षेत्र में गुणात्मक व सकारात्मक परिवर्तन लाने का काम करेगा।