शर्म मगर हमको आती नहीं ,,,

–कमलेश भारतीय –यह राजनीति है भैया । यहां शर्म का क्या काम ? पैंतीस करोड रुपये की ऑफ रोज़ रोज़

Read more

अजीत सिंह : कम्पीटीशन के चक्कर में टीवी चैनल्ज बिजनेस बने

कमलेश भारतीय पहले खबर ब्रेक करने के चक्कर में टीवी चैनल्ज बिजनेस ही बन गये हैं । यह बहत बडी

Read more

रवीश कुमार और मैग्सैसे

– कमलेश भारतीय  एनडीटीवी और स्वतंत्र व निर्भीक पत्रकारिता की पहचान बन चुके रवीश कुमार को मैग्सैसे ने अवार्ड के

Read more

सर्वप्रिया सांगवान : अब मीडिया का स्वर्ण युग नहीं रहा

अब मीडिया का स्वतंत्रता पूर्व वाला स्वर्ण युग नहीं रहा जब पत्रकारिता में जान तक जोखिम में डाल देते थे

Read more

आपातकाल को याद करने का वक्त

 कमलेश भारतीय  आज आपातकाल को याद करने का वक्त है । आज से साढे चार दशक पहले तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा

Read more