• Fri. Aug 19th, 2022

Bharat Sarathi

A Complete News Website

साहित्य

  • Home
  • लड़की के लिए माहौल हमेशा खतरनाक होता है : मैत्रेयी पुष्पा

लड़की के लिए माहौल हमेशा खतरनाक होता है : मैत्रेयी पुष्पा

–कमलेश भारतीय ‘अलमा कबूतरी’ व ‘चाक’ जैसे उपन्यासों से ‘विवादित व बदनाम’ लेखिका के रूप में बहुचर्चित मैत्रेयी पुष्पा ने कहा कि लड़की के लिए माहौल हमेशा ही खतरनाक होता…

हरियाणा के सत्यवान सौरभ का देश के सर्वश्रेष्ठ 125 लघुकथाकारों में चयन

राष्ट्रीय लघुकथा संग्रह ‘दमकते लम्हे’ के प्रकाशन पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दी शुभकामनाएं. भिवानी – संपर्क संस्थान जयपुर के द्वारा प्रकाशित राष्ट्रीय लघु कथा संग्रह ‘दमकते लम्हे’…

लघु कथा ………. फासला

-कमलेश भारतीय -अजी सुनते हो ?-हूं , कहो ।-आपकी बहन का संदेश आया है ।-क्या ?-वही पुराना राग गाया है ।-यानी ?-रक्षाबंधन का त्यौहार आ रहा है । आकर मिल…

प्रवासी और भारतीय लेखकों के सेतु : सुधा ओम ढींगरा

कमलेश भारतीय मेरी पत्रिका विभोम-स्वर, प्रवासी व भारतीय लेखकों के बीच सेतु है और मेरे द्वारा लिए गए विश्व के पचास प्रवासी हिंदी लेखकों के साक्षात्कारों की दो पुस्तकों ने…

उदयभानु हंस को भावभीनी श्रद्धांजलि ……… कोई सपना बुनो जिंदगी के लिए

कमलेश भारतीय हिसार : प्रसिद्ध कवि उदयभानु हंस को आज उनकी पुण्यतिथि पर पीसीसीपीए(पीएलए)में आयोजित एक कार्यक्रम में काव्य गोष्ठी कर श्रद्धांजलि अर्पित की गयी । इसमें साहित्य कला संगम…

लघुकथा : राजनीति

कमलेश भारतीय एक आदमी की दूसरे आदमी से लडाई हो गयी। बढते बढते बात हाथापायी तक आ गयी ।पहले आदमी के हाथ लाठी लग गयी । जिससे उसने दूसरे आदमी…

दीप्ति नवल की पुस्तक …….. एक देश जिसे कहते हैं बचपन

यह समीक्षा नहीं , एक पाठक पर पड़ा प्रभाव मात्र है और इसे पहले खुद दीप्ति नवल ने पढ़ने के बाद ही स्वीकृति दी कि अब उपयोग कीजिए –कमलेश भारतीय…

भिवानी का सपुत माधव कौशिक चंडीगढ़ हिंदी साहित्य अकादमी के चेयरमैन बने

समाजसेवी संस्थाओं, साहित्यकारों एवं गणमान्यजनों द्वारा मिल रही बधाइयां चंडीगढ़ : भिवानी शहर के लाडले सपुत एवं प्रतिष्ठित साहित्यकार माधव कौशिक को चंडीगढ़ हिंदी साहित्य अकादमी का चेयरमैन नियुक्त किया…

आखिर क्यों बदल रहे हैं मनोभाव और टूट रहे परिवार?

भौतिकवादी युग में एक-दूसरे की सुख-सुविधाओं की प्रतिस्पर्धा ने मन के रिश्तों को झुलसा दिया है. कच्चे से पक्के होते घरों की ऊँची दीवारों ने आपसी वार्तालाप को लुप्त कर…

लघुकथाएं ……..कुछ कुछ होता है

कमलेश भारतीय बहुत दिनों बाद बहुत दिनों बाद अपने छोटे से शहर गया था । छोटे भाई के परिवार में खुशी का आयोजन था । बीते सालों में यह पहला…