रमेश पोखरियाल मेहमानों से दुखी

– कमलेश भारतीय 

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और आजकल केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल रमेश कुमार पोखरियाल निशंक सरकारी आवास पर दिल्ली आने वाले मेहमानों से परेशान हैं । एक जानकारी के अनुसार लगभग डेढ सौ मेहमान उन्हें प्रतिदिन मिलने पहुंच रहे हैं ।  इससे वे इतने परेशान हुए कि बाहर निजी सुरक्षा गाॅर्ड बिठा दिए ।

पहले तो कहते रहे कि आओ एक बार मिलने दिल्ली की कोठी पर लेकिन जब मिलने वालों का तांता लगना शुरू हुआ तब निजी गाॅर्ड लगा दिए । राजनेताओं की कोठियों पर अटूट लंगर चलना आम बात है । मैं राजनीति में पंजाब में अपने क्षेत्र के विधायक के करीब रहा और जब भी चंडीगढ मिलने जाते तो वे समय के मुताबिक जलपान करवाने के आदेश देते । घर आए मेहमान को जलपान तो दोगे ही । 

आजकल सभी नेताओं के इसी तरह अटूट लंगर चल रहे हैं । चाय की प्यालियों से लेकर खान पान तक सब चलता रहता है। फार रमेश कुमार पोखरायाल निशंक जी को क्या परेशानी हुई ?

 अभी लोकसभा चुनाव में तो हर शहर और गांव में दफ्तर खोल कर जलपान चलाते रहे । वोट मांगते रहे । अब जीत गये तो सबको दिल्ली की कोठी की टोर दिखाने के लिए आने का कहते रहे और जब भोले वोटर विश्वास कर आने लगे तब सुरक्षा गाॅर्ड बिठा दिए । यह तो सरासर धोखा है ।

हमारे फिल्लौर लोकसभा क्षेत्र से एक बार बसपा सांसद हरभजन लाखा चुने गये थे । उन्होंने मुझे किसी विश्वसनीय कार्यकर्त्ता के हाथों मिठाई का डिब्बा और कोठी का पता भिजवाया था कि कभी दिल्ली आओ तो दर्शन देना । शुक्र है मैंने उनकी बात का विश्वास नहीं किया और कभी नहीं गया लेकिन क्या पता जाने पर यही सुरक्षा गाॅर्ड मेरा स्वागत् करते । फिर मैं कहां जाता ?

नेताओं को मेहमानों का स्वागत् करना ही पडता है और यही जनसम्पर्क भी है । इसके बिना राजनीति में टिकोगे कैसे ? आप निशंक हो जाइए पोखरियाल जी । 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *