वृक्ष हमारे प्राण हैं, साक्षात भगवान हैं : राव भोपाल

भारत सारथी/ऋषि प्रकाश कौशिक

गुरुग्राम। वृक्ष हमारे प्राण हैं, हमें जीवन देते हैं, आप देखिए शुद्ध हवा वृक्षों के कारण ही होती है, हमारा आहार वृक्षों से ही प्राप्त होता है और अब की बात छोडूं तो कुछ समय पूर्व तक हमारे इंधन का काम भी वृक्ष ही देते थे। यह बात राव भोपाल ने एक मुलाकात में कही।

उन्होंने आगे कहा कि आप देखिए  वृक्ष हमारे गुरू भी हैं। सांप्रदायिक सद्भाव का कितना बड़ा संदेश देते हैं। वृक्ष की छाया में बैठकर हर जाति समुदाय के लोग मिलकर बात करते हैं। अपनी थकान मिटाते हैं। इस प्रकार देखा जाए तो हमें समझने की जरूरत है कि वृक्ष हमें जाति-पाति, देश-प्रदेश के बंटवारे से अलग होकर एक होने का संदेश देते हैं इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को वृक्ष अवश्य लगाने चाहिएं, चाहे आपकी उम्र अब 70 के आसपास हो रही है तो आपको भी वृक्ष लगाना चाहिए, यह आपका फर्ज बनता है, आपकी आने वाली पीढिय़ों के लिए।

उन्होंने आगे कहा कि मेरे घर आकर देखिए आपको दिखाई देगा कि कितनी हरियाली है। आप देखिए कि आदमी जन्म लेता है तो हवन के लिए लकड़ी चाहिए। कोई भी काम करता है तो भी लकड़ी की आवश्यकता पड़ती है और ध्यान कीजिए कि जब आदमी अपने अंतिम सफर पर जाता है तब भी लकड़ी की आवश्यकता पड़ती है मोक्ष प्राप्ति के लिए। हमने गल्तियां कीं, वृक्ष काटते गए, नए लगाए नहीं, जिसका परिणाम आज भुगत रहे हैं।

यदि अब भी हम नहीं चेते और हमने प्रण नहीं लिया कि वृक्ष जब भी जहां भी जैसे भी मौका मिले लगाएं। वृक्ष लगाने की जगह न हो तो पौधा लगाएं।

इसलिए सभी लोगों को अपने किसी भी प्रिय के जन्मदिन, त्यौहारों अथवा याद में कम से कम एक पौधा अवश्य लगाकर उसकी सही से देखभाल करनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *