• Tue. Sep 29th, 2020

Bharat Sarathi

A Complete News Website

-कमलेश भारतीय

सारा विश्व कोरोनोमय हो गया है । कोरोना वायरस चीन से फैल कर सारे संसार में अपनी टांगें फैला चुका है । सबको अपने ही जाल में फंसा चुका है । मोबाइल पर घंटी बाद में बजती है खांसी पहले सुनाई देती है । शहर दर शहर मास्क की कालाबाजारी शुरू हो गयी है । अमेरिका से लेकर भारत तक सब कोरोना को हाथ जोड़ कर प्रार्थना कर रहे हैं -कोरोना करूणा करो न । पर कोरोना है कि स्कूल, काॅलेज , यूनिवर्सिटी, सिनेमा और मार्केट तक बंद करवाने पर तुला है । सब तरफ इसी का राज है । काश यह कोरोना कुछ समय पहले आ जाता तो दिल्ली में दंगे तो न होते । लोग घरों में घुसा रहते । न भीड़ में जाते न मारे जाते । अब आया तो क्या आया कोरोना । कोरोना का डर होता तो मध्यप्रदेश के विधायक कभी एकसाथ बंगलौर न जाते और न कमलनाथ की सरकार पर कोई खतरा मंडराता । अब तो बंगलौर भागने वालों को स्पीकर महोदय वापस बुला रहे हैं कि कमलनाथ की सरकार की छोड़ो ।अपनी खैर तो मनाओ । घर आ जाओ । कोई कुछ नहीं कहेगा ।

ज्योतिरादित्य ने राज्यसभा का नामांकन भर दिया है और प्रियंका गांधी का राज्यसभा जाना टल गया है । अब तो आ जाओ । इधर हरियाणा में भी कोरोना के डर से बहन जी सुश्री सैलजा दीपेंद्र हुड्डा के नामांकन के समय नहीं पहुंचीं । कोरोना के डर से ट्वीटर पर ही शुभकामनायें दे दीं । कौन चंडीगढ़ जाए । भीड़ में जाना मना है । हां , अपनी टिकट मिल जाती तो निडर होकर जातीं । वक्त वक्त की बात है ।

हाई कमान मध्यप्रदेश एपीसोड से डरी हुई बैठी थी । हरियाणा का खतरा मोल नहीं लिया । दुष्यंत चौटाला जरूर चुटकी ले रहे हैं कि कांग्रेस ने पहले अशोक तंवर और अब सैलजा के साथ अन्याय किया । अब रामकुमार गौतम की बजाय दुष्यंत कुमार गौतम को राजी कर , वोट देकर कौन सा न्याय करोगे ? बाहर का प्रत्याशी और कह रहा है कि मैं इटली से कोनी आया । कोई बात नहीं । इस बार हरियाणा में राज्यसभा चुनाव का मजा कोनी आवै । वो कलम बदलने वाले की ड्यूटी नहीं लगाई जा रही जो सुभाष चंद्रा के चुनाव के समय बदल दी गयी थी और जे पी भी तो जीत कर नहीं आए । कौन कलम बदलेगा ? किस्मत तो लिखी जा चुकी कि तीनों प्रत्याशी लगभग निर्विरोध चुने जायेंगे ।

हे कोरोना करूणा करो न । ज्योतिरादित्य पर । भोपाल गये तो पुराने कांग्रेसी मित्रों ने काले झंडे दिखा दिए । कहां जाएं ? इधर फारूक़ अब्दुल्ला 222 दिन की नजरबंदी के बाद अब आजाद हैं । सरकार ने सोचा कि अब हम क्यों कुछ कहें ? कोरोना ही काफी है । 9416047075

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap