लोकसभा चुनावी जीत ने भाजपा कार्यकर्ताओं की दूर कर दी नाराजगी

भाजपा आई चुनावी मोड पर, कांग्रेस असमंजस की स्थिति में, हुड्डा गुट को तंवर के हटने का इंतजार

ईश्वर धामु

चंडीगढ।  भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने हरियाणा विधानसभा चुनाव में 75 सीट का तारगेट दिया है। भाजपा के शाह ने साथ ही मुख्यमंत्री तथा प्रदेश प्रधान को 75 सीटें जीतने का मंत्र भी दे दिया। अब हरियाणा में भाजपा ने शाह के मंत्रों का जाप शुरू कर दिया है। लोकसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत का पार्टी प्रदेश भर में जश्र मना रही है। मुख्यमंत्री प्रदेश के हर जिले में जाकर कार्यकर्ताओं का सम्मान कर रहे हैं। निसंदेह इससे कार्यकर्ताओं में ऊर्जा का पूरा संचार  हुआ है।

कार्यकर्ताओं का कहना है कि जो मेहनत उन्होने लोकसभा चुनाव में की थी, उसके लिए उनकी पीठ थपथपाई तो अब विधानसभा चुनाव में कार्यकर्ता दोगुना जोश से चुनाव में लग जायेंगे। कार्यकर्ता सम्मान अभियान में मुख्यमंत्री मनोहरलाल इस अभियान में कार्यकर्ताओं की नब्ज भी टटोल रहे हैं। वैसे तो अब लोकसभा चुनाव के बाद कार्यकर्ताओं में पार्टी स्तर पर कोई नाराजगी रही नहीं पर विधानसभा चुनाव में जीत की उम्मीद ने कार्यकर्ताओं में जोश और ऊर्जा आ गई है। अब कोई भी भाजपा कार्यकर्ता अपने नेताओं और अधिकारियों के प्रति शिकायत करता हुआ नहीं मिलेगा। कार्यकर्ताओं की शिकायतें तथा गिले-शिकवें जीत के साथ ही दूर हो गए।

भाजपा ने इस तरह चुनाव प्रक्रिया से जुड़े कार्यकर्ताओं का पहली बार सार्वजनिक अभिनंदन किया है। दूसरी ओर कांग्रेस ने भी विधानसभा चुनाव में जीत कर सरकार गठन करने का संकल्प लिया है। दिल्ली स्थित हुड्डा निवास पर हुई हुड्डा समर्थकों की बैठक में मिल कर चुनाव लडऩे का संकल्प लिया गया। हालांकि अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के त्यागपत्र से आक्समिक आई स्थिति में उलझी कांग्रेस ने अभी हरियाणा विधानसभा चुनाव में जीत के लिए कोई नीति नहीं बनाई है। केवल हुड्डा गुट ने ही दिल्ली में बैठक कर लोकसभा चुनाव में करारी हार के बारे में चिंतन किया। परन्तु इस बैठक में प्रदेश प्रधान अशोक तंवर समर्थक मौजूद नहीं थे। इस कारण चर्चाकार इस बैठक को अधुरी नीति बता रहे हैं।

अभी कांग्रेस आलाकमान ने इस बारे एक बैठक बुलाई थी, लो बेनतीजा रही। अब कांग्रेस के पास पार्टी स्तर पर कोई चुनावी जीत का फार्मूला नहीं है। चर्चाकारों का कहना है कि बहुत जल्द ही कांग्रेस का प्रदेश प्रधान अशोक तंवर को बदला जा रह्वहा है। क्योकि हुड समर्थकों की दिल्ली बैठक से पूर्व पार्टी का एक बउ़े नेता ने भूपेन्द्र सिंह हुड्डा को आलाकमान का संदेश सुना दिया था। इसी कारण दिल्ली बैठक में नई पार्टी बनाने का मुद्दा नहीं उछाया गया। अब तंवर की विदाई के बाद ही पार्टी विधानसभा चुनाव में जीत का कोई फार्मूला तैयार करेगी। पर इनेलो का चुनाव फार्मूला तो पार्टी सुप्रीमो ओम र्पकाश चौटाला के पास है, जो कभी भी जारी कर देंगे। पर जेजेपी पार्टी चुनावी कार्यक्रम पर पूरा ामस लगा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *