नांगल चौधरी सीट : डा. अभय रहेगें ‘अभय’ या इन्दरजीत की चोट कर देगी धराशायी

प्रतिष्ठा और अहम की लड़ाई में फंसी भाजपा 

अशोक कुमार कौशिक 

नारनौल। जिला महेंद्रगढ़ की नांगल चौधरी विधानसभा सीट पर इस बार लड़ाई आसान नजर नहीं आ रही । डॉ अभय सिंह ने नांगल चौधरी से विधायक बनने के बाद विकास कार्यों की बदौलत अलग पहचान बनाई। अभय सिंह के लिए विधानसभा की दूसरी सफल पारी खेलना इतना आसान नहीं आता प्रतीत हो रहा है । उनकी राह में जजपा के चौधरी मुलाराम,  कांग्रेस के राजाराम गोलवा, स्वराज पार्टी से इन्जीनियर तेजपाल तथा इनेलो से सुमन गोठडी़ चुनौती बनकर सामने है। 

नांगल चौधरी सीट पर कांग्रेस, इनेलो तथा जजपा ने गुर्जर प्रत्याशी मैदान में उतारे है,  गुर्जर वोट बिखराव के चलते डॉ अभय सिंह को लाभ मिल सकता है । अभय सिंह यादव की राह में रामपुरा हाऊस विरोध के कांटे बिछे है । कुछ माह पूर्व राव इंद्रजीत सिंह ने दौंगडा़ अहीर में रैली की थी, जहां अभय सिंह और संतोष यादव दोनों ने रैली से दूरी बनाई थी । इसी बात से खफा इंद्रजीत सिंह ने मंच से ही इशारा कर दिया था कि आने वाले चुनाव में इन दोनों के टिकट कटाने का पूरा प्रयास करेंगे। इसके बावजूद दोनों निवर्तमान एमएलए ने राव को कोई भाव देना जरूरी नहीं समझा । संतोष यादव की टिकट कट चुकी है, वह पार्टी से बगावत करने की बजाय पार्टी के लिए काम कर रही है ।

चौधरी मुलाराम

इंद्रजीत सिंह अभयसिंह का टिकट कटवाने में सफल नहीं रहे । अभय सिंह को टिकट दिया जाना शायद उन्हें अभी तक रास नहीं आ रहा । इसका अनुमान  नामांकन रैली में देखने को मिला  नारनौल में  राव इंदरजीत सिंह ने  भाजपा प्रत्याशी  ओम प्रकाश यादव  तथा सीताराम यादव को वोट देने अपील की ओर नामांकन करवाया। वही अभय सिंह से दूरी भी प्रत्यक्ष रुप से दर्शा दी।  राजनीतिक पण्डितों के अनुसार नांगल चौधरी हल्के में राव की मजबूत पकड़ मानी जाती । अगर वह किसी प्रत्याशी को जीता नहीं सकते तो हराने का मादा जरूर रखते है। दूसरी बार टिकट मिलने के बाद अभय सिंह अपनी जीत के प्रति पूरी तरह आश्वस्त नजर आ रहे हैं । उन्होंने अभी तक राव के सामने सरेंडर नहीं किया । बड़े राव की काट के रुप में उन्होने मुख्यमंत्री खट्टर की रैली नांगल चौधरी में रखा दी।  ऐसे में उनके लिए राव समर्थकों के वोट हासिल करने की राह आसान नहीं ।

इन्जीनियर तेजपाल

 गत विधानसभा चुनाव में इनेलो से मन्जू चौधरी तथा कांग्रेस के प्रत्याशी चंद्र प्रकाश गुर्जर के रूप में पुराने चेहरे थे।  इस बार कांग्रेस ने युवा चेहरे के रूप में राजाराम गोलवा को मैदान में उतारा । राजाराम को नए लेकिन मजबूत प्रत्याशी के रूप में देखा जा रहा है । जेजेपी की ओर से मैदान में उतारे गए चौधरी मूलाराम एक सशक्त पकड़ वाले नेता माने जाते हैं । उनके पिता चौधरी फुसाराम की गुर्जरों में बहुत अच्छी पकड़ रही थी । पिछली बार उनकी पत्नी मंजू चौधरी इनेलो से मैदान में थी। चौटाला परिवार का साथ और निजी पकड़ के चलते मामूली वोट से हार जीर हुई थी। इस बार चौटाला परिवार दो फाड़ है और इनेलो से प्रत्याशी भी मैदान में है। 

पिछली बार  डॉ अभय सिंह को  राव इंद्रजीत सिंह के अलावा  डेरा सच्चा सौदा का भी साथ मिला था और वह बहुत कम अंतर से ही चुनाव जीते थे । दूसरी ओर सोशल मीडिया पर हाल में ही वायरल हुए एक वीडियो में अभयसिंह का विरोध देखने को मिल रहा है । धोलेडा़ गांव में विधायक के सामने मुर्दाबाद के नारे लगाए गये और उन्हें खाली लौटना पडा़ । नांगल चौधरी सीट पर जातिगत निर्णय भी एक बहुत बड़ा मुद्दा है जो निर्णायक भूमिका निभाने वाला माना जाता है । यदि राव इंदरजीत सिंह का समर्थन चौधरी मूलाराम की ओर चला जाता है या अप्रत्यक्ष रूप से राजाराम गोलवा की ओर चला जाता है तो यह दोनों में से समर्थन वाला उम्मीदवार कड़ी टक्कर देने वाला हो सकता हैं ।

इधर डॉ अभय सिंह यादव मोदी तथा मनो साथ, लॉजिस्टिक हब, नहरी पानी तथा अन्य विकास को लेकर चुनाव मैदान में अपने जीत के दावे जता रहे हैं ।यदि दीगर बात है कि लॉजिस्टिक हब को लेकर  क्षेत्र के किसान  पंजाब  एवं हरियाणा  उच्च न्यायालय में  गए हुए हैं  । किसानों की यह नाराजगी  डॉक्टर  अभय सिंह के लिए भारी पड़ सकती है  । स्वराज पार्टी के  तेजपाल  भी उनके लिए  धीरे-धीरे समस्या बनते जा रहे हैं । इंजीनियर तेजपाल की  पिछले काफी दिनों से  क्रेशर प्रदूषण तथा लॉजिस्टिक हब को लेकर  डॉ अभय सिंह के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं । वह यादव है और इस बिरादरी में वोट का बिखराव हो सकता है। इस सीट पर इनेलो से महिला प्रत्याशी सुमन गोठडी को कम आंकना भी एक भूल होगा। चुनाव में हार जीत में उनके पति वीरेंद्र गोठडी की अहम भूमिका रह सकती। जाट वोट बैंक यदि उनके समर्थन में चला गया तो वह निर्णायक भूमिका में हो सकती है।

सात उम्मीदवारों में बसपा के गजे सिंह तथा एस यू सी आई के छाजुराम भी ताल ठोक रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *