अलसुबह से अद्र्धरात्रि तक शहर के सुधार को जनता के बीच रहते हैं सुधीर

बीजेपी प्रत्याशी सुधीर सिंगला कर रहे हैं लगातार कार्यक्रम
-36 बिरादरी की मिल रहा है बीजेपी प्रत्याशी को समर्थन

गुरुग्राम। बेशक वे सत्ताधारी पार्टी की टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं, लेकिन उनमें न तो किसी तरह का अहंकार नजर आता है और न ही कोई वीआईपी कल्चर। पिता भी प्रदेश में मंत्री रहे, लेकिन उनके पुत्र में आज तक भी ऐसी कोई बात नजर नहीं आई जो कि उन्हें वीआईपी कल्चर में रहने का अहसास कराती है। यही बात उन्हें औरों से अलग करती है।

हम बात कर रहे हैं गुडग़ांव विस से बीजेपी के प्रत्याशी सुधीर सिंगला की। पेशे से अधिवक्ता सुधीर सिंगला टिकट मिलने के दिन तक अपनी अदालती कार्यवाही में लगे रहे थे। साथी अधिवक्ताओं से उन्हें बधाईयां मिलनी शुरू हुई। रात को जब  उनके नाम पर टिकट की घोषणा हुई तो उन्होंने रातभर बधाईयां मिलती रही। साथ ही वे आगे की रणनीति में जुट गये। खैर अब चुनाव प्रचार अभियान जोरों पर है। सभी प्रत्याशी अपनी ताकत झोंक रहे हैं। सत्ताधारी पार्टी की टिकट पर चुनाव लडऩे वाले ज्यादातर नेता अपनी जीत पक्की मानकर मेहनत करना कम कर देते हैं। लेकिन सुधीर सिंगला इससे इत्तेफाक नहीं रखते। उनका मानना है कि हमें कर्म करना जरूरी है। कर्म से ही तख्तो-ताज हासिल होते हैं। किस्मत भी तभी साथ देती है जब हम कर्म करेंगे। इसलिए वे अंतिम दिन तक जनता के बीच चुनाव प्रचार करते हुये बीजेपी को वोट देने की अपील करते रहेंगे। आपको बता दें कि सुधीर सिंगला की सुबह तो लगभग चार बजे हो जाती है। इस समय वे उठकर पूजा-पाठ आदि करके अपनी टीम के साथ मंथन करते हैं। कार्यक्रमों के रूपरेखा पर निगाहें डालते हैं और फिर निकल पड़ते हैं। वे पार्कों में आमजन से मिलते हैं। उनके मन की बात जानते हैं और अपने मन की कहते हैं। जनता के बीच चुनाव प्रचार करते-करते वे अलसुबह से अद्र्धरात्रि तक जनता से जुड़े रहते हैं।

पार्क में सुधीर की सादगी के कायल हुये लोग

यहां सेक्टर-14 की पार्क में उनके दौरे के बाद जब हमने कुछ लोगों से बात की तो यह प्रतिक्रिया मिली कि पहले भी इस तरह से नेता देर-सवेर आये हैं।  लेकिन हर किसी की बात में इतना दम नहीं देखा। हर किसी के ऐसे विचार नहीं देखे, जो कि सुधीर सिंगला के हैं। वे न तो कोई ऐसा बड़ा वायदा ही कर रहे हैं, जोकि चुनाव में कर दें और आगे चलकर उनके बस की बात ही न हो। वे सादगी के साथ अपना प्रचार कर रहे हैं। जीतकर जनता की सेवा करेंगे। इन्हीं लफ्जों से वे दिल भी जीत रहे हैं। बुजुर्ग दंपत्ति रमेश सहगल तथा लाजवंती भी सुधीर सिंगला की बातों से प्रभावित हुये। उन्होंने कहा कि ऐसे ही नेताओं की हमें जरूरत है। जो झूठी बातें न बोले। कोई भी नागरिक पर्सनल कुछ काम नहीं करवाने की सोचता। लोगों को सुविधायें समय पर मिलती रहें, यह बड़ी बात है।   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *