• Thu. Dec 8th, 2022

Bharat Sarathi

A Complete News Website

शहीदे आजम भगत सिंह को युवा संगठन – एआईडीवाईओ ने माल्यार्पण व पुष्प अर्पित कर दी श्रद्धांजलि, मशाल जुलूस निकाला

गुडगांव: 28/09/2022 – शहीदे आजम भगत सिंह जयंती की पूर्व संध्या पर 27 सितंबर 2022 की शाम को क्रांतिकारी युवा संगठन – एआईडीवाईओ ने लक्ष्मण विहार फेस-2 के काली मंदिर चौक पर शहीदे आजम भगत सिंह की फोटो लगाकर माल्यार्पण व पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। वरिष्ठ नागरिक जयप्रकाश शर्मा ने सर्वप्रथम पुष्प अर्पित किये तथा उनके बाद सैंकडों की संख्या में मौजूद स्थानीय युवाओं, महिलाओं ने पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की।

श्रद्धांजलि सभा के बाद संगठन के युवा कार्यकर्ताओं ने फूल माला लगी शहीदे आजम भगत सिंह की फोटो को साथ लेकर तथा शहीद भगत सिंह ,राजगुरु ,सुखदेव द्वारा फांसी से पहले लगाए गए नारों “इंकलाब- जिंदाबाद!” , “साम्राज्यवाद -मुर्दाबाद!”, के साथ मशाल जुलूस शुरू हुआ। मौजूद स्थानीय लोगों ने कुछ दूर तक जुलूस के साथ चलकर अपनी एकजुटता जाहिर की। मशाल जुलूस की अगुवाई जिला सचिव राजेश गोस्वामी और जिला अध्यक्ष बलवान सिंह ने की।

जुलूस में “महिला मर्यादा की रक्षा करो”, “बलात्कारियों व हत्यारों को फांसी दो”, “अश्लीलता व नशाखोरी पर रोक लगाओ”, “सभी बेरोजगारों को रोजगार दो” , “महंगाई पर रोक लगाओ”, “शिक्षा- चिकित्सा सबको मुफ़्त दो” , “शहीदे आजम भगत सिंह शोषण विहीन समाज बनाने के सपने को साकार करो” आदि गगनभेदी नारों को सुनकर लोग घरों, दुकानों से बाहर आकर भारी उत्साह से देख रहे थे तथा संगठन के कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ा रहे थे।

मशाल जुलूस लक्ष्मण विहार से शुरू होकर रेलवे स्टेशन के पास से होते हुए भीमगढ़ खेड़ी गांव, अशोक विहार फेस वन और दो के बाजार से होते हुए शहीद भगत सिंह चौक, सेक्टर 5 पहुंचा।

सेक्टर 5 चौराहे पर जिला सचिव राजेश गोस्वामी ने सभा में परिवर्तित जुलूस को संबोधित करते हुए कहा कि बेरोजगारी की समस्या ने गंभीर रूप अख्तियार कर लिया है। युवा निराश हताश होकर आत्महत्या जैसा कदम उठा रहे हैं। युवा समस्याओं का समाधान पूंजीवाद विरोधी समाजवादी क्रांति जिसका सपना भगत सिंह ने देखा था के द्वारा ही संभव है।
जिलाध्यक्ष बलवान सिंह ने संबोधित करते हुए कहा कि स्वतंत्रता सेनानी महान मार्क्सवादी विचारक कामरेड शिवदास घोष ने हमें बताया कि गैर समझौता वादी क्रांतिकारियों के आदर्श चरित्र से शिक्षा लेकर पूंजीवाद विरोधी समाजवादी क्रांति को सफल बनाना होगा। वर्तमान में समाज में चारों तरफ मां बहनों की चित्कार सुनाई दे रही है। हत्यारों बलात्कारियों का सम्मान किया जा रहा है। लोगों को सांप्रदायिकता के आधार पर बांटा जा रहा है। रिक्त पदों को खत्म किया जा रहा है। सभी नौकरियां ठेके पर दी जा रही हैं। सार्वजनिक प्रतिष्ठानों को कौड़ियों के दाम देश के कॉरपोरेट को बेचा जा रहा है। महंगाई, नशाखोरी ,अश्लीलता द्वारा युवा पीढ़ी को बर्बाद करने के लिए सोची समझी साजिश के तहत प्रचार प्रसार किया जा रहा है। शहीदे आजम भगत सिंह के आदर्श को अपनाकर ही युवा संगठित होकर समाज को बदल सकते है। अंत में मशाल जुलूस में शामिल सभी का धन्यवाद करते हुए कार्यक्रम का समापन किया।

मशाल जुलूस में संगठन के उपाध्यक्ष वजीर सिंह, महेंद्र सिंह, के अलावा विजय कुमार , राकेश सैनी, कमल कांत, स्वामी हेमराज, कोमल, अशोक दास, सतीश कुमार, बलजीत सिंह, राजेश कुमार, चमन , सिकंदर, अभिषेक ,राजेश कुमार, शोकेस भारद्वाज, कृष्ण कुमार, झाड़सा, नन्ही देवी, दत्ता, बनिता, प्रियंका, मीनाक्षी, सुखदेवी, सुनीता, रेखा, कृष्णा, राकेश, मदन, जयप्रकाश शर्मा , आदि शामिल थे।

  • Facebook
  • Twitter
  • LinkedIn
  • More Networks
Copy link
Powered by Social Snap