• Thu. Sep 29th, 2022

Bharat Sarathi

A Complete News Website

यह समीक्षा नहीं , एक पाठक पर पड़ा प्रभाव मात्र है और इसे पहले खुद दीप्ति नवल ने पढ़ने के बाद ही स्वीकृति दी कि अब उपयोग कीजिए

कमलेश भारतीय

‘मैंने अपने घर चंद्रावली की छत से एक पत्थर का टुकड़ा साथ की मसीत के गुम्बद की ओर फेंका -आखिरी बार । गुम्बद पर बैठे कबूतर उड़ गये । मैंने एक आह भरकर खुद से पूछा -जैसे ये कबूतर उड़कर वापिस आ जाते हैं , क्या मैं भी कभी अपने इसी घर में अमेरिका से वापिस आ पाऊंगी ?

सच कहा , सोचा दीप्ति नवल ने हम कभी वहीं , वैसे के वैसे जीवन में वापिस नहीं लौट सकते लेकिन जो लौट सकती हैं -वे होती हैं मधुर यादें । यही इस किताब के लेखन का केंद्र बिंदु है , बचपन लौट नहीं सकता लेकिन उसकी यादें जीवन भर , समय-समय पर लौटती हैं ।

दीप्ति नवल ने अपने बचपन और टीनएज के कुछ सालों की यादों को इस पुस्तक में पूरे 380 पन्नों में बहुत ही रोचक ढंग से लिखा है । वैसे इसे दीप्ति नवल की आत्मकथा का पहला पड़ाव भी माना जा सकता है । और खुद दीप्ति ने भूमिका में लिखा है कि इसे मेरी बचपन की कहानियां भी कहा जा सकता है । छोटी से छोटी यादें और उनसे मिले छोटे-छोटे सबक , सब इसमें समाये हुए हैं । जैसे बहुत बच्ची थी तो दीप्ति अपनी नानी से कहती ‘ चीनी दे दो , चीनी दे दो ‘ कहती रहती और, जब चीनी न मिलती तो कहती -लूण ही दे दो । यानी समझौता और सबक यह कि फिर समझौते न करने की कसम खा ली । ज़िंदगी में किसी भी कीमत पर कोई भी समझौता नहीं । जब मां दूध बांटने जाती हैं और नन्ही दीप्ति साथ जाती है । एक दिन जब सारा दूध बंट चुका होता है तो एक बच्चा दूध मांगता है और खत्म होने की बात सुनकर जो उसकः चेहरे पर उदासी आती है , निराशा होती है , वह दीप्ति को आज तक नहीं भूली और वे कोई पेंटिग बनाने की सोचती रहती हैं ।

ऐसी बचपन की एक और सीख है । पंजाब में बच्चे दुकानदार से थोड़ा सा भी सम्मान खरीदने के बाद ‘चुगा’ मांगते हैं । ऐसे ही दूसरे बच्चों को मांगते देख नन्ही दीप्ति भी चुंगा मांगने की जिद्द करने लगी छोटे से दुकानदार से । अचानक किसी काम से दीप्ति की मम्मी उधर निकली और दीप्ति को ऐसा करते देख घर ले जाकर खूब डांट पिलाते कहा कि ज़िंदगी में कभी अपनी मेहनत से ज्यादा कभी कुछ नहीं मांगना । समझी ? बस । वह सीख जिंदगी भर के लिए गांठ बांध ली नन्ही दीप्ति ने ।

दीप्ति नवल एक एक्ट्रेस ही क्यों बनीं ? इसका जवाब कि इनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि । दादा बहुत बड़े वकील थे लेकिन अमृतसर के दो तीन सिनेमाघरों में एक बाॅक्स बुक रखते और शाम को कोर्ट से लौटते हुए पहले किसी न किसी फिल्म का कुछ हिस्सा देखकर ही घर आते । मां हिमाद्रि भी कलाकार , डांसर और स्वतंत्रता आंदोलन में योगदान के लिए नाटक करती रहीं । सचमुच एक्ट्रेस ही बनना चाहती थीं । पर दीप्ति की दादी ने एक दिन इनकी मां को कहा कि मेरी ‘वीमेन कान्फ्रेंस’की औरतें कहती हैं कि तेरी बहू तो ड्रामे करती है । बस । दादी की बात दिल को ऐसी लगी कि वह दिन गया , फिर कभी मंच पर कदम नहीं रखा । इनके एक कजिन इंदु भैया बिल्कुल देवानंद दिखते थे और ‘दोस्ती’ फिल्म में छोटा सा रोल भी मिला लेकिन मुम्बई से असफल रहने पर लौट आये । इंदु भैया का देवानंद की लुक में फोटो भी है ।

पर दीप्ति नवल जब बच्ची थी तब प्रसिद्ध अभिनेता बलराज साहनी अमृतसर एक नाटक मंचन करने आये और दीप्ति अपने पिता के साथ गयीं । भरी भीड़ में अपने करीब से निकलते बलराज साहनी को बहुत धीमी आवाज में कहा कि ऑटोग्राफ प्लीज , वे थोड़ा आगे निकल गये । फिर अचानक लौटे और हाथ बढ़ाया ऑटोग्राफ बुक लेने के लिए । ऑटोग्राफ किये और कहा -माई डियर । यदि मैं इसी तरह ऑटोग्राफ देता रहा तो मेरी ट्रेन छूट जायेगी । यह वही उम्र थी जब दीप्ति ने फैसला कर लिया कि मैं एक्ट्रेस ही बनूंगी । किस किस एक्ट्रेस से प्रभावित रही यह पूरा खुलासा किया है -फिल्ममेनिया अध्याय में । कभी मीना कुमारी तो कभी वहीदा रहमान तो कभी शर्मिला टैगोर तो कभी अमृतसर का काका यानी राजेश खन्ना तो कभी साधना । साधना कट भी बनवाया । कत्थक सीखा , यूथ फेस्टिवल में पुरस्कार जीते लेकिन जब टिकटों के साथ दीप्ति के प्रोग्राम में लाइट चली गयी और मां ने कुछ हुड़दंग देखा तब इस तरह के प्रोग्राम से तौबा करने का आदेश दे दिया और मां की तरह खुद दीप्ति भी मन मसोस कर रह गयी । पर सफर जारी रहा ।

कोई सोचे कि दीप्ति ने अचानक से पेंटिंग शुरू कर दी । यह शौक भी बचपन से ही है । एक आर्ट स्टुडियो में बाकायदा कला की क्लासें लगती रहीं । और अब तो मनाली के पास बाकायदा पेंटिंग स्टूडियो है । हालांकि फिल्मी दुनिया का सफर कैसा रहा ? यह अनुभव नहीं लिखे गये लेकिन एक बहुत प्यारी बात लिखी कि जिस दीप्ति नवल को कत्थक नृत्य आता था , उससे किसी फिल्म में किसी निर्देशक ने एक भी डांस नहीं करवाया । यह हिंदी फिल्मों की भेड़चाल को उजागर करने के लिए काफी है कि कैसे किसी कलाकार को एक ही ढांचे में फिट कर दिया जाता है । फिर दीप्ति ने फिल्में भी बनाईं और सीरियल्ज भी, निर्देशन भी किया । वह एक्टिंग से आगे बढ़ गयी । वैसे दीप्ति नवल को वहीदा रहमान का ‘गाइड’ फिल्म का गाना ‘कांटों से खींच के ये पायल’ बहुत पसंद था और वहीदा रहमान की लुक की तरह मंच पर किसी और गाने पर प्रोग्राम भी दिया था । किताब में वहीदा रहमान की लुक में फोटो भी है । कविता लेखन भी स्कूल के दिनों में ही शुरू कर दिया था और इनकी सीनियर किरण बेदी ने इनकी कविता पढ़ी तो कहा कि अच्छा लिखती हो और लिखती रहो । अमृता प्रीतम से मिली तो उन्होंने भी कहा कि आप कविता लिखा करो । इनका काव्य संग्रह ‘लम्हा लम्हा ‘ इससे पहले आकर चर्चित हो चुका है ।

पिता उदय चंद्र एक चिंतक , लेखक और अंग्रेजी के प्रोफैसर थे । दीप्ति उन्हें ‘पित्ती’ कहती थी यानी पिता जी का शाॅर्ट नेम ‘पित्ती’ । सुबह अपनी बेटियों को हारमोनियम बजा कर जगाया करते थे । पंडित जवाहर लाल नेहरु , सर्वपल्ली राधाकृष्णन् और गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर जैसे विद्वानों तक सम्पर्क रहा । पुस्तकें लिखीं । काॅलेज में प्रोफैसरी की और दोस्त से कहा -यार तीन सौ रुपये में क्या होगा ? फिर इसी प्रोफैसरी से प्यार हो गया । इसी ने अमेरिका तक पहुंचाया । हालांकि वहां भी कम मेहनत नहीं करनी पड़ी । दिन में किसी लाइब्रेरी में तो रात में कहीं सिक्युरिटी गार्ड पर बच्चों के सुनहरे भविष्य के लिए सब खुशी खुशी करते गये और आखिर एक साल के भीतर बच्चों को अमेरिका बुला लिया ।

मैंने इसलिए शुरू में इस पुस्तक को दीप्ति नवल की आत्मकथा का पहला भाग कहा । इसमें बचपन को ही समेटा है । स्कूल के दिनों की शरारतें , सहेली का पीछा करने वाले लड़के की पिटाई , भाग कर बैलगाड़ियों की सवारी के मजे ,मोमबत्तियों के साये में नकल और पेपर रद्द लेकिन दीप्ति का कहना कि उसने कोई नकल नहीं की थी । नीटा देवीचंद का वो रूप जो बाद में मनोवैज्ञानिक शब्दावली में ‘लेस्बियन’ समझ में आया । पागलखाने में दाखिल नीटा देवीचंद को देखने जाना और फिर बरसों बाद पता लगना कि विदेश में नीटा देवीचंद ने आत्महत्या कर ली । शिमला में नीटा की मां को बुलाकर मिलना । इसी तरह मुन्नी सहित कितनी सखियों की यादें । यह सब संवेदनशील दीप्ति के रूप हैं । इतना सच कि फिल्मों में देखे कश्मीर को देखने के लिए अकेली घर से भाग निकली और रेलवे पुलिस ने वापिस अमृतसर पहुंचाया । और पापा का कहना कि बेटा एक रात घर से भागकर तूने मेरी बरसों की कमाई इज्जत मिट्टी में मिला दी पर बाद में एक सफल एक्ट्रेस बन कर ‘पित्ती’ यानी पिता का नाम खूब रोशन भी किया । एक पिता का दर्द बयान करने के लिए काफी है । यह भी उस समय की फिल्मों के प्रभाव को बताने के लिए काफी है कि बालमन पर ये फिल्में कितना प्रभाव छोड़ती थीं । कभी देशभक्ति उमड़ती थी तो दीप्ति नवल गीत गाती थी -साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल या हकीकत फिल्म के गीत ।

अमृतसर की बहुत कहानियां हैं । इन कहानियों में भारत पाक विभाजन , सन् 1965 और सन् 1967 के युद्धों की विभीषिका, ब्लैक आउट के साथ साथ बर्मा के संस्मरण कि कैसे मां का परिवार वापिस पहुंच पाया । विश्व युद्ध की झलक और बहुत कुछ ऐतिहासिक घटनाओं का मार्मिक वर्णन । यह सिर्फ बचपन की स्मृतियां नहीं रह गयीं बल्कि अपने समय , समाज और देश का एक जीवंत दस्तावेज भी बन गयी हैं । अमृतसर के जलियांवाला बाग का मार्मिक चित्रण । वे वहां काफी देर तक बहुत भावुक होकर बैठी रहीं और यह प्रभाव आज तक बना हुआ है । सिख म्यूजियम और बाबा दीप चंद का फोटो । बहुत से फोटोज है ब्लैक एड व्हाइट ।

बहुत कुछ है इन यादों में छिपा हुआ । अमृतसर में अपने घर के पास के लोगों का चित्रण और एक एक दुकान और दुकानदार की बात लिखी है । अपने माता पिता के आपसी झगड़ों को भी लिखकर दीप्ति ने यह साबित कर दिया कि लेखन में वे कितनी सच्ची और ईमानदार हैं । वे लिखती हैं कि मैं समझती थी कि मेरे मम्मी पापा आइडियल जोड़ी हैं लेकिन इनके आपसी झगड़ों से मन पर बहुत प्रभाव पड़ा ।

बहुत सी क्लासफैलोज के जिक्र भी हैं जिनमें इनको बड़ी बहन की सहपाठी किरण पशौरिया जो बाद में किरण बेदी बनी -पहली महिला आईपीएस और नीलम मान सिंह जो बड़ी चर्चित थियेटर आर्टिस्ट हैं और पंजाब विश्वविद्यालय के इंडियन थियेटर विभाग की अध्यक्ष भी रहीं ।

तो लिखने को तो बहुत कुछ है , अगर लिखने पे आते ।
सबसे अंत में दीप्ति नवल के पिता हमारे नवांशहर के थे और यहीं इनका जन्म हुआ । यह जानकर बहत सुखद सा आश्चर्य हुआ । यह भी बता दूं कि सन् 1965 के ब्लैक आउट में ही मेरे पिता जी का निधन हुआ था और मेरा जन्म भी सन् 1952 का है जो दीप्ति नवल का भी जन्म वर्ष है । यह किताब मुझे पंजाब के अमृतसर , नवांशहर, जलालाबाद और मुकेरियां तक ले गयी । जलालाबाद को छोड़कर सब देखे हुए हैं और इससे भी ज्यादा सुखद आश्चर्य कि पूरी खोज और जांच पड़ताल के बाद ही दीप्ति ने यह किताब लिखी , वह बहुत ही सराहनीय है और इसके लिए ढेरों बधाइयां ।
-पूर्व उपाध्यक्ष, हरियाणा ग्रंथ अकादमी । 9416047075

  • Facebook
  • Twitter
  • LinkedIn
  • Email
  • Print
  • Copy Link
  • More Networks
Copy link
Powered by Social Snap