• Tue. Dec 7th, 2021

Bharat Sarathi

A Complete News Website

ब्रह्मस्वरुप ब्रह्मचारी करेंगे अध्यक्षता एवं महर्षि सांदीपनि राष्ट्रीय वेद विद्या प्रतिष्ठान उज्जैन के उपाध्यक्ष प्रो. प्रफुल्ल कुमार उद्घाटन सत्र के होंगे मुख्यातिथि।
जयराम विद्यापीठ में तीन दिवसीय राष्ट्रीय स्तरीय वैदिक सम्मेलन का 25 से 27 अक्तूबर तक आयोजन।
देशभर से चार वेदों के 100 से अधिक प्रकांड विद्वान लेंगे भाग।

वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक

कुरुक्षेत्र, 23 अक्तूबर : – 25 अक्तूबर से 27 अक्तूबर तक जयराम विद्यापीठ में देशभर से संस्कृत एवं वेदों के महान विद्वानों का सान्निध्य प्राप्त होगा। देशभर में योग, स्वास्थ्य, तकनीकी शिक्षा, अध्यात्म, कन्या शिक्षा, गौ संरक्षण एवं विज्ञान शिक्षण संस्थानों के साथ संस्कृत भाषा के प्रचार प्रसार के लिए संचालित जयराम संस्कृत शिक्षण संस्थानों व जयराम संस्थाओं के परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरुप ब्रह्मचारी के मार्गदर्शन में तीन दिवसीय राष्ट्रीय स्तरीय क्षेत्रीय वैदिक सम्मेलन का आयोजन जयराम विद्यापीठ कुरुक्षेत्र में 25 अक्तूबर से 27 अक्तूबर तक किया जा है।

जयराम संस्थाओं के मीडिया प्रभारी राजेश सिंगला ने बताया कि इस राष्ट्रीय वैदिक सम्मेलन उद्घाटन सत्र में 25 अक्तूबर को महर्षि सांदीपनि राष्ट्रीय वेद विद्या प्रतिष्ठान उज्जैन के उपाध्यक्ष प्रो. प्रफुल्ल कुमार मिश्र मुख्यातिथि होंगे जबकि उत्तरांचल संस्कृत विश्वविद्यालय के संस्थापक कुलपति व जयराम संस्थाओं के परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरुप ब्रह्मचारी अध्यक्षता करेंगे। इसी उद्घाटन सत्र में लाल बहादुर शास्त्री विश्वविद्यालय दिल्ली के कुलपति डा. रमेश कुमार पांडेय विशिष्ट अतिथि होंगे। महर्षि सांदीपनि राष्ट्रीय वेद विद्या प्रतिष्ठान उज्जैन के सचिव प्रो. विरूपाक्ष वी. जड्डीपाल् व हरियाणा संस्कृत अकादमी के निदेशक डा. दिनेश शास्त्री सारस्वतातिथि होंगे। सिंगला ने बताया कि इस सत्र के संयोजक लाल बहादुर शास्त्री विश्वविद्यालय दिल्ली के प्रो. शिव शंकर मिश्र होंगे जबकि श्री जयराम संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य रणबीर भारद्वाज धन्यवाद ज्ञापक होंगे। द्वितीय सत्र में उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय हरिद्वार के कुलपति प्रो. देवी प्रसाद त्रिपाठी सत्राध्यक्ष होंगे। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के प्रो. राजेश्वर मिश्र मुख्य वक्ता होंगे।

इस सत्र में प्रो. रामानुज उपाध्याय, प्रो. सुंदर नारायण झा, डा. अखिलेश कुमार मिश्र, डा. अशोक कुमार मिश्र व डा. हनुमान मिश्र विशेष वक्ता होंगे। जबकि डा. अरुण कुमार मिश्र सत्र संयोजक होंगे। सिंगला ने बताया कि दूसरे दिन 26 अक्तूबर को प्रथम सत्र में सुबह वेद शाखा प्राणायाम होगा। इस दिन दूसरे सत्र में लाल बहादुर शास्त्री विश्वविद्यालय दिल्ली के प्रो. राम सलाही द्विवेदी सत्राध्यक्ष होंगे व कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के प्रो. सुरेंद्र मोहन मिश्र मुख्य वक्ता होंगे। इस सत्र में प्रो. रामराज उपाध्याय, प्रो. गोपाल प्रसाद शर्मा, प्रो. देवेंद्र प्रसाद मिश्र, डा. मदन मोहन तिवारी व डा. अरुण कुमार मिश्र विशेष वक्ता होंगे। जबकि डा. अशोक कुमार मिश्र सत्र संयोजक होंगे। सिंगला ने बताया कि 27 अक्तूबर को राष्ट्रीय स्तरीय वैदिक सम्मेलन के समापन सत्र में जयराम संस्थाओं के परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरुप ब्रह्मचारी अध्यक्षता करेंगे व कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सोमनाथ सचदेवा मुख्यातिथि होंगे।

इस सत्र में लाल बहादुर शास्त्री विश्वविद्यालय दिल्ली के कुलपति डा. रमेश कुमार पांडेय विशिष्ट अतिथि होंगे। लाल बहादुर शास्त्री विश्वविद्यालय दिल्ली के प्रो. शिव शंकर मिश्र संयोजक होंगे। समापन सत्र में श्री जयराम संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य रणबीर भारद्वाज धन्यवाद ज्ञापक होंगे। सिंगला ने बताया कि तीन दिवसीय राष्ट्रीय स्तरीय क्षेत्रीय वैदिक सम्मेलन में पूरे देश के विभिन्न राज्यों से चारों वेदों के सौ से अधिक महान विद्वान भाग लेंगे। उन्होंने बताया कि महर्षि सांदीपनि राष्ट्रीय वेद विद्या प्रतिष्ठान उज्जैन एवं श्री जयराम विद्यापीठ कुरुक्षेत्र के संयुक्त तत्वावधान में यह राष्ट्रीय स्तरीय वैदिक सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है। वैदिक सम्मेलन में विद्यापीठ में देशभर से आने वाले वेदों के महान विद्वानों के लिए ठहरने व भोजन इत्यादि की भी विशेष व्यवस्था की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link
Powered by Social Snap