• Thu. Sep 29th, 2022

Bharat Sarathi

A Complete News Website

भारत सारथी/ऋषि प्रकाश कौशिक

गुरुग्राम। कभी खुद पे, कभी हालात पे रोना आया। ये पंक्तियां वर्तमान में हरियाणा कांग्रेस पर चरितार्थ होती नजर आ रही हैं। राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से ईडी की पूछताछ के विरोध में कांग्रेस सारे देश में सत्याग्रह कर रही है। कल गुरुग्राम में कांग्रेस की कोई गतिविधि नजर नहीं आई और जैसे कि सूचनाएं मिली कि कल चंडीगढ़ में प्रदेश अध्यक्ष उदयभान का कार्यक्रम था, वह भी संख्या की दृष्टि से सफल नहीं माना जा सकता। यहां तक कि उस कार्यक्रम में प्रदेश प्रभारी विवेक बंसल, पूर्व मुख्यमंत्री और विधायकों की उपस्थिति भी नजर नहीं आई। ये सब बातें कांग्रेस को अपना मंथन करने पर अवश्य मजबूर करेंगी।

आज गुरुग्राम में कांग्रेस का सत्याग्रह हुआ लेकिन फिर उस सत्याग्रह को देख कहावत याद आई कि जंगल में मोर नाचा किसने देखा? 

सत्याग्रह प्रशासन और जनता को अपनी उपस्थिति, शक्ति और विरोध जताने के लिए सार्वजनिक जगहों पर किए जाते हैं, ज्यादातर वह सचिवालय पर किए जाते हैं परंतु कांग्रेस का सत्याग्रह उनके अपने कार्यालय में हुआ। उसके पीछे क्या कारण है, यह तो कांग्रेसी ही बताएंगे लेकिन जिस प्रकार गत सप्ताह कांग्रेसी प्रदर्शन के लिए सड़कों पर निकले और अपनी मंजिल तक भी न पहुंच पाए तो शायद आज औपचारिकता पूरी करने को सत्याग्रह भी कर लिया और फजीहत बचाने के लिए अपने ही कार्यालय पर कर लिया। उस कांग्रेस कार्यालय का स्थान गुरुग्राम वासी भली प्रकार जानते हैं, जो बिल्कुल एकांत में है। खैर जो भी है, कांग्रेसियों ने जो कहा वह प्रस्तुत है।

गुरुग्राम जिले के कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने एकजुट होकर बुधवार को कमान सराय स्थित कांग्रेस कार्यालय में सत्याग्रह आंदोलन के तहत भाजपा सरकार द्वारा की जा रही अनैतिक कार्रवाइयों के विरोध में जमकर प्रदर्शन किया,  कांग्रेसी नेताओं ने कहा कि नेशनल हेराल्ड मामले में झूठा केस बनाकर कांग्रेस पार्टी को बदनाम करने के लिए पहले तो राहुल गांधी को ईडी ने अपने दफ्तर में बुलाया और अब सोनिया गांधी को ईडी दफ्तर में बुलाकर पूछताछ की है, ईडी और सीबीआई इस तरह की पूछताछ सिर्फ भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के इशारे पर कर रही है, इसके पीछे भाजपा का राजनैतिक वैमनस्य के सिवा और कुछ भी नहीं है।

कांग्रेसियों ने कहा कि भाजपा सरकार ईडी और सीबीआई जैसी एजेंसियों का डर दिखाकर उन सभी लोगों की आवाज बंद कर देना चाहती है जो आम लोगों की आवाज बनकर भाजपा के विरोध में खड़े होते हैं।

पूर्व मंत्री सुखबीर कटारिया ने कहा कि कांग्रेस द्वारा केंद्र सरकार की जनता विरोधी योजनाओं पर सवाल उठाए जाने पर आज कांग्रेसी नेताओं के घर कहीं सीबीआई की रेड तो कहीं ईडी की छापेमारी कराई जाती है यह सब राजनीतिक दुश्मनी के कारण किया जा रहा है।

कटारिया ने कहा कि भाजपा एक बात जान ले और समझ ले कि कांग्रेस का कोई भी सिपाही किसी भी कार्रवाई से डरने वाला नहीं है, इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा कि अगर कोई भी एजेंसी किसी भी मामले की जांच करती है तो जांच जल्द पूरी करें जिससे कि दूध का दूध और पानी का पानी हो सके।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में आम जनता महंगाई से त्राहि-त्राहि कर रही है लोगों को मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल रही, जनता पर लगातार विभिन्न प्रकार के टैक्स लगाए जा रहे हैं जिससे हालात यह है कि लोगों को दो वक्त की रोजी रोटी के लिए भी लंबा सफर करना पड़ रहा है।

भाजपा जो भी जनता विरोधी कार्य करेगी सभी कार्यों का विरोध कांग्रेस पार्टी करती रही है और आगे भी करती रहेगी, भाजपा कांग्रेस के सिपाहियों के पीछे चाहे सीबीआई लगाए चाहे ईडी कांग्रेस के सिपाहियों पर कोई फर्क पडऩे वाला नहीं है।

  • Facebook
  • Twitter
  • LinkedIn
  • Email
  • Print
  • Copy Link
  • More Networks
Copy link
Powered by Social Snap